Life Poetry

अब बिकाऊ है ज्ञान

Like
Like Love Haha Wow Sad Angry
1

 

कण-कण को जोड़ कर बनती है बोलियां
बोलियों का आधार है स्वर
स्वर से बनते शब्द
और शब्दों का आधार है ज्ञान।

 

अब ज्ञान होता दुर्लभ जब
अर्जित करने को लगते ते थे प्रयास अनगिनत तब
जीवन की कठिनाइयां सीख बड़ी दे जाती
अच्छी-अच्छी किताबें जो कभी सिखला नहीं पाती।

 

कभी शिक्षा पाने की खातिर गुरुदक्षना दी जाती
तभी तोह एकलव्य ने अपनी उंगली थी काटी
फिर तब गुरु भी तो द्रोणाचार्य जैसे होते थे
जो अपने ज्ञान की निर्मल धारा से अपने शिष्यों को संजोते थे।

 

फिर बदला दौर और शिक्षा ने था मुख मोड़ा
अब तो लेन देन बन गया था शिक्षा पना थोड़ा
हर तरफ ये चलन था आम
तु दे अनाज या कपड़ा और ले ज्ञान।

 

ज्यों युग बीते सो सुख चैन खोता रहा
और हर शिक्षा देने वाला माया मुग्ध होता चला
हर स्वर से सरस्वती जैसे चली सी गयी हैं
और लक्ष्मी लोभन ने उसकी जगह ले ली है।

ALSO SEE :   Frustrations

 

चलो फिर से मन में ये ज्योत जलाएं
सरस्वती को सही स्थान दिलाये
हैं बिकाऊ नही ज्ञान
यही हो शिक्षा की असली पहचान।

 

जो तुझे आता है तु मुझे सिखाये
जो मुझे आता है में तुझे
सिर्फ किताबी ज्ञान ना रह जाये आधार
और जीवन के हर प्रश्न की अनुक्रिया सूझे।





Like
Like Love Haha Wow Sad Angry
1
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latest Thoughts

To Top
More in Life Poetry, Poetry, Society and Culture, Spiritual Wisdom, कविताएं
Kabhi Na Rukna

Sukh aur dukh sikke ke do pehlu, Ek laaye khushi, to dusra laaye gham,   Jeene ke liye dono hi...

The Game of Life

Let’s play the game of life In the arena of this world Where each player has one life But you...

Close