Sad Poetry

सीख लिया

सीख लिया
Like
Like Love Haha Wow Sad Angry
15511

हर दुख में मुस्कुराना सीख लिया,

हर गम को अब जीना सीख लिया,

किसी और पर भरोसा नहीं मुझे,

अब खुद पर भरोसा करना सीख लिया।

 

जिसको भी दोस्त माना मैने

वो दगा दे गया,

ना जाने किस गलती की

मुझे वो सज़ा दे गया।

 

हर मोड़ पर गिरकर अब

संभलना सीख लिया,

दिल मोम का था पहले

अब इसे पत्थर का करना सीख लिया,

 

जितना रोना था रो लिया मैने,

अब इन आँसूओ को पीना सीख लिया।

Like
Like Love Haha Wow Sad Angry
15511
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latest Thoughts

To Top
More in Sad Poetry
lonely girl beyond
A Step Into Beyond

But the lights are switched off And the throat's running dry No diamonds in the dark No lustre in your...

crimson shadows
Crimson Shadows

I see the Time ambling away Laughing at my helplessness Present withering away to past Past turning to ashes Provoking...

Close